Thursday, April 9, 2009

कार्टून : जूतों कि भाषा .... बोलने वाले और समझने वाले !

♥ बामुलाहिजा
♥ आज का पंगा
♥ cartoons by Kirtish Bhatt ♥ Panga Na Le by Pangebaj


17 comments:

देवीलाल की आतमा said...

ये राजनितिक जूते की ही भाषा समझते है जी :)

ravindra vyas said...

bahut achhe!

शेफाली पाण्डे said...

bahut achcha vyangya....

संजय बेंगाणी said...

जबरदस्त जुगलबन्दी

आशीष कुमार 'अंशु' said...

अगले व्यंग्य का इंतजार अभी से .....

Gyan Dutt Pandey said...

आत्मायें भी आपके ब्लॉग पर कमेण्ट करने लगीं! बहुत पापुलर हो गया है यह! :)

Unknown said...

वाह वाह

अविनाश वाचस्पति said...

एक नई भाषा :
नेताओं के लिए जिसे
भारतीय भाषाओं में

अधिसूचित किया जाना
अच्‍छा रहेगा



पत्रकारों के लिए :
पंगेबाज जी आजकल

कलम का जमाना ना है

कीबोर्ड का है ?

दिनेशराय द्विवेदी said...

जय हो! आप की!

परमजीत सिहँ बाली said...

बहुत बढिया!!! चलो इन्हें कोई भाषा तो समझ में आती है।यही सही;)

राजीव तनेजा said...

अब नई कहावत बनने जा रही है कि ...जूतों के भूत बातों से नहीं मानते

Amol said...

You are very creative and your cartoons are really funny.
Great work!!
I am subscribing to you :)

अभिषेक मिश्र said...

Badhiya, magar is naye trend ki sarahna nahin ki ja sakti.

Anand Nirmal Jain said...

गीला जूता मारा सर आपने
बहुत जोर से लगेगा

सिटीजन said...

bahut hi joradaar vah vah anand gaya ji .

संगीता पुरी said...

अब समझ में आ रहा है उन्‍हें !!बहुत बढिया !!

अनिल कान्त said...

maza aa gaya bhai