Tuesday, September 30, 2008

कार्टून : ये डूबना भी कोई डूबना है लल्लू !!!

बामुलाहिजा



जरा इस डॉलर पर भी गौर फरमाइए जो अमेरिका में चल रहे आर्थिक संकट के मेरे ईमेल आई डी पर फारवर्ड किया गया।



7 comments:

Gyan Dutt Pandey said...

बेंजामिन फ्रैंकलिन की आंखें फटी रह गयी हैं - वज्रपात हुआ है!:)

Anonymous said...

अभी तो आंखें फटी हैं
नाक आलरेडी कट चुकी है
गरदन कटना बाकी है

बाकी जो बचा वो
तो कीर्तिश जी के अनुसार
डूबने ही वाला है

इसे ही कहते हैं
भारत में दिवाली
और
अमेरिका में निकल
रहा दिवाला है

भारत फिर भी
दिलवाला है।

Gyan Dutt Pandey said...

ओह, जॉर्ज वाशिंगटन हैं शायद। बैंजामिन फ्रैंकलिन नहीं! खैर जो भी हों।

संजय बेंगाणी said...

दुनिया इतनी जूड़ चुकी है कि किसी भी देश का आर्थिक संकट सबको प्रभावित करता है.

Anand Nirmal Jain said...

कमजोर दिल अमेरिका वाले जल्दी डर जाते हैं... भारतीय संघर्षशील हैं, हर भंवर से तर जाते हैं.

Udan Tashtari said...

बहुत सही!! डॉलर पर फोटो की हालत!! :)

Unknown said...

bahut khub